Sun Mere Humsafar Hindi Lyrics सुन मेरे हमसफ़र

Sun Mere Humsafar - Badrinath Ki Dulhania | Varun & Alia Bhatt - Akhil Sachdeva, Mansheel Gujral Lyrics

Sun Mere Humsafar Lyrics

Sun Mere Humsafar Lyrics In Hindi from the movie Badrinath Ki Dulhania and this song is sung by Akhil Sachdeva, Starring Varun Dhawan and Alia Bhatt.

Singer Akhil Sachdeva, Mansheel Gujral
Music Akhil Sachdeva
Song Writer Akhil Sachdeva

S
un zaalima mere
sanu koi darr na
Ki samjhega zamana
Oh tu vi si kamli
Main vi sa kamla
Ishqe da rog seyana
Ishqe da rog seyana
Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Ki teri saanse chalti jidhar
Rahunga bas wahi umrr bhar
Rahunga bas wahi umrr bhar haaye
Jitni haseen ye mulakatein hai
Unse bhi pyari teri baatein hai
Baaton mein teri jo kho jaate hai
Aaun na hosh mein main kabhi
Baahon mein hai teri zindagi haaye
Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Zaalima tere ishq ch main
Ho gayi aan kamli haye
Main toh yoon khada kis
Soch mein pada tha
Kaise jee raha tha main deewana
Chhupke se aake tune
Dil mein sama ke tune
Chhed diya kaisa ye fasana
O.. muskurana bhi tujhi se sikha hai
Dil lagane ka tu hi tareeka hai
Aitbaar bhi tujhi se hota hai
Aaun na hosh mein main kabhi
Bahon mein hai teri zindagi haaye
Hai nahi tha pata
Ke tujhe maan lunga khuda
Ki teri galliyon mein iss kadar
Aaunga har paher
Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Ki teri saanse chalti jidhar
Rahunga bas wahi umrr bhar
Rahunga bas wahi umrr bhar haaye
Zaalima tere ishq ch main.


Sun Mere Humsafar Lyrics In Hindi

सुन ज़ालिमा मेरे
सानु कोई डर ना
की समझेगा ज़माना
ओह तू वि सी कमली
मैं वि सा कमला
इश्क दा रोग सयाना
इश्क दा रोग सयाना 

सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
की तेरी साँसे चलती जिधर
रहूँगा बस वही उम्र भर
रहूँगा बस वही उम्र भर 

हाय जितनी हसीं ये मुलाकातें हैं
उनसे भी प्यारी तेरी बातें हैं
बातों में तेरी जो खो जाते हैं
आऊँ ना होश में मैं कभी
बाहों में है तेरी ज़िन्दगी हाय

सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर

ज़ालिमा तेरे इश्क च मैं

हो गयीआं कमली हाय

मैं तो यूं खड़ा किस
सोच में पड़ा था
कैसे जी रहा था मैं दीवाना

छूपके से आके तूने
दिल में समां के तूने
छेड़ दिया कैसा ये फ़साना ओ.. 
मुस्कुराना भी तुझी से सिखा है
दिल लगाने का तू ही तरीका है
ऐतबार भी तुझी से होता है
आऊँ ना होश में मैं कभी
बाहों में है तेरी ज़िन्दगी हाय

हैं नही था पथा 
के तुझे मान लूंगा खुदा 
कि तेरी गलियों मैं इस क़दर
आऊंगा हर पहर 

सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
की तेरी साँसे चलती जिधर
रहूँगा बस वही उम्र भर
रहूँगा बस वही उम्र भर 

ज़ालिमा तेरे इश्क च मैं.


Post a Comment

0 Comments